लोकप्रिय पोस्ट

शनिवार, दिसंबर 22, 2012

लम्हों लम्हों में बस ढलता रहा...




लम्हों लम्हों में बस ढलता रहा 
ये वक़्त रुका न, फिसलता रहा 

जिसने न की कभी क़दर इसकी 
वो उम्र भर बस हाथ मलता रहा   

गयी रुतें तो, वो पत्ते भी चल दिए 
सहरा में तन्हा शजर जलता रहा 

दोस्त समझ के जिसे साथ रखा 
आस्तीनों में सांप सा पलता रहा 

उसकी यादों की गर्मी में, बर्फ सा  
रोज कतरा कतरा मैं गलता रहा 

मंजिल की दीद हुई न कभी मुझे 
ता-उम्र मैं सफ़र पे ही चलता रहा 

उसके जाने का गम तो नहीं पर  
ना लौटने का वादा खलता रहा 

12 टिप्‍पणियां:

  1. उसके जाने गम तो नही पर
    न लौटने का वादा खलता रहा
    उत्कृष्ट पंक्ति
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपकी यह बेहतरीन रचना बुधवार 26/12/2012 को http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जाएगी. कृपया अवलोकन करे एवं आपके सुझावों को अंकित करें, लिंक में आपका स्वागत है . धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  3. bahut sundar gajal , badhai aapka blog sundar aur accha laga .

    welcome at my blog

    http://sapne-shashi.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुन्दर प्रस्तुति..!
    आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल रविवार (23-12-2012) के चर्चा मंच-1102 (महिला पर प्रभुत्व कायम) पर भी की गई है!
    सूचनार्थ!

    उत्तर देंहटाएं
  5. लाजवाब
    "मंजिल की दीद हुई न कभी
    ता उम्र मैं सफ़र पे ही चलता रहा"

    उत्तर देंहटाएं
  6. उसके जाने का गम तो नहीं पर.
    ना लौटने का वादा खलता रहा.

    बहुत सुंदर गज़ल.

    उत्तर देंहटाएं
  7. usske jane ka ghum to nhi
    par aane wada khalta raha
    wahhh...bemisaal....
    http://ehsaasmere.blogspot.in/

    उत्तर देंहटाएं
  8. शानदार ग़ज़ल लिखी है आपने.

    उत्तर देंहटाएं
  9. Badhai ...Behtreen Rachna ke liye....
    http://ehsaasmere.blogspot.in/

    उत्तर देंहटाएं
  10. आप सभी का तहे दिल से शुक्रिया ....
    अपनी नजरो करम यूँ ही बनाये रखें ....

    उत्तर देंहटाएं

Plz give your response....