लोकप्रिय पोस्ट

मंगलवार, दिसंबर 13, 2011

रह गयीं हैं अब कहाँ बहार की बातें




जीत की बातें हैं, ना हैं हार की बातें 
इश्क में हैं तो दर्द बेशुमार की बातें 

वो मौसमों के हसीं निखार की बातें 
रह गयीं हैं अब कहाँ बहार की बातें 

वीराने घर के और ये दीवार-ओ-दर 
आज भी करते हैं इंतज़ार की बातें 

अपना बना के जबसे छोड़ गया वो 
लगती हैं बेजा सी ऐतबार की बातें 

शाम तन्हाई जो उसकी याद चले है  
आँखें करती हैं फिर फुहार की बातें 

ख्यालों की वादी का 'राज़' ग़ज़ल में 
चनाब की बातें कुछ चनार की बातें 

5 टिप्‍पणियां:

  1. जीत की बातें हैं, ना हैं हार की बातें
    इश्क में हैं तो दर्द बेशुमार की बातें


    शाम तन्हाई जो उसकी याद चले है
    आँखें करती हैं फिर फुहार की बातें ...सुन्दर .

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपकी पोस्ट आज के चर्चा मंच पर प्रस्तुत की गई है
    कृपया पधारें
    चर्चा मंच-729:चर्चाकार-दिलबाग विर्क

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत खूबसूरत भावो का ज़खीरा।

    उत्तर देंहटाएं
  4. वाह! शानदार ग़ज़ल...
    सादर बधाई...

    उत्तर देंहटाएं
  5. शुक्रिया आप सभी का .....

    उत्तर देंहटाएं

Plz give your response....