लोकप्रिय पोस्ट

शनिवार, सितंबर 17, 2011

ग़ज़ल बना दी इश्क, मुहब्बत, रुसवाई ने



मीठा मीठा इक दर्द उठाया है तन्हाई ने 

जिक्र जो उसका छेड़ दिया है पुरवाई ने


हँसता है गर दरिया, खुश ना जानो तुम 

जाने कितना दर्द छुपा रखा है गहराई ने


हिचकी भी मुझको अब ना आती उतनी 

याद भी कम करवा दी शायद मंहगाई ने 


ये चाँद बहुत कम आँगन में आता है मेरे 

जाने क्या-२ सिखलाया है शब् हरजाई ने 


हमको लफ़्ज़ों की किमियागीरी नहीं पता 

ग़ज़ल बना दी इश्क, मुहब्बत, रुसवाई ने

3 टिप्‍पणियां:

  1. सुंदर गज़ल हर बार की तरह .

    बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  2. बढ़िया गज़ल...दूसरा शेर बहुत अच्छा लगा

    उत्तर देंहटाएं
  3. vey nice bro... if you have time than visit my blog also www.supershayari.blogspot.com your command on urdu is nice.....best of luck

    उत्तर देंहटाएं

Plz give your response....