लोकप्रिय पोस्ट

शनिवार, फ़रवरी 05, 2011

दर्द अपना कुछ मुख़्तसर निकला



दिल की बज़्म से हंस कर निकला 
दर्द अपना कुछ मुख़्तसर निकला 

जिसे अपने अजीजों में रखा मैंने 
खंज़र उसका ही पीठ पर निकला 

शब् यादों की तीरगी में कट गयी 
फिर माह क्या ता-सहर निकला 

तू नहीं गर तो तेरा ख्याल ही सही 
कोई तो अपना हमसफ़र निकला 

कुछ ख्वाब, वीरानी और वहशत 
यही सामान बस मेरे घर निकला 

देखीं थीं जिसने औरों में खामियाँ 
वो ''राज़'' खुद ही बे-बहर निकला 

7 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत ख़ूबसूरत गज़ल..मन को छू जाती है

    उत्तर देंहटाएं
  2. गज़ब की दिल को छूती गज़ल्।

    उत्तर देंहटाएं
  3. कुछ ख्वाब ,वीरानी और वहशत
    यहि सामान बस मेरे घर निकला
    बेहतरीन शेर ....उम्दा ग़ज़ल

    उत्तर देंहटाएं
  4. bhut hi sundar ,,,,,,apne dard ko bhut hi achchhe shwad diye apne

    उत्तर देंहटाएं

Plz give your response....