लोकप्रिय पोस्ट

सोमवार, जनवरी 17, 2011

ख्वाब में ही सही आके तो मिला कर


कभी मुझ पर भी तू इतनी दुआ कर 
ख्वाब में ही सही आके तो मिला कर 

महर-ओ-माह की नहीं दरकार मुझे 
मेरे घर में इक चराग बस अता कर 

थक चुकी है ये शब् तीरगी से बहुत
नसीमे-सहर दे खूबसुरत फ़ज़ा कर 

ना ले थाम हाथों में तू हाथ मेरा पर  
साथ कुछ दूर चलने से ना मना कर 

आजार-ए-इश्क का भी मज़ा ले यहाँ 
अरे इक बार ही सही ये भी खता कर 

सुकूँ उसके ही दर पर ही तुझे आएगा 
चल मस्जिद चल इबादत-ए-खुदा कर 

ज़फ़ा करे वो तो हंस के टाल दे "राज़"
कुछ और ना उनसे वफ़ा के सिवा कर 

6 टिप्‍पणियां:

  1. वाह बहुत सुन्दर गज़ल्।

    उत्तर देंहटाएं
  2. चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर आपकी रचना आज मंगलवार 18 -01 -2011
    को ली गयी है ..नीचे दिए लिंक पर कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया ..

    http://charchamanch.uchcharan.com/2011/01/402.html

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुंदर नज़्म. बेहतरीन अंदाज़.

    उत्तर देंहटाएं
  4. ख्वाब में ही सही आके तो मिला कर/महर-ओ-माह की नहीं दरकार मुझे/मेरे घर में इक चराग बस अता कर/ना ले थाम हाथों में तू हाथ मेरा पर साथ कुछ दूर चलने से ना मना कर/

    बहुत ख़ूबसूरत रचना.. नाजुक ख़याल इतनी खूबसूरती से बयान हुये हैं इस ग़ज़ल में कि बस पढ़ कर मुँह से बेसाख्ता निकलता है वाह.!! . जितने सुन्दर भाव उतना ही बेहतरीन भाषा का सौंदर्य ...
    मंजु

    उत्तर देंहटाएं
  5. शुक्रिया....
    वंदना जी...
    संजय भाई...
    संगीता जी...
    रचना जी...
    आप सभी का आभारी हूँ...
    ऐसे ही साथ देते रहिये और हौसला बढाते रहिये...

    मंजू जी....बेहद खूबसूरती से विश्लेषण किया है..
    क्या कहूँ.... बस दिल से दुआ ही निकलेगी आपके लिए..

    उत्तर देंहटाएं

Plz give your response....